शनिवार, 14 जुलाई 2012

अयोध्या एवं राम जन्मभूमि का इतिहास -1(History of Ayodhya and Ram Temple-1)

मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जन्म भूमि का इतिहास लाखो वर्ष पुराना है । इस पोस्ट में विभिन्न पुस्तकों से मिले कुछ तथ्यों को संकलित करने का प्रयास कर रहा हूँ, जिससे रामजन्मभूमि और इतिहास के बारे में वास्तविक जानकारी का संग्रहण,विवेचना और ज्ञान हो सके। ये सारे तथ्य विभिन्न पुस्तकों में उपलब्ध हैं, मगर सरकारी मशीनरी और तुस्टीकरण के पुजारी उन्हें सामान्य जनमानस  तक नहीं आने देते मैंने सिर्फ उन तथ्यों का संकलन करके आप के सामने प्रस्तुत किया है॥ इसमे प्रमुखता से स्वर्गीय पंडित रंगोपाल पांडे "शारद" द्वारा लिखे गए तथ्यों को आप के सामने आने वाली सभी कड़ियों मे रखने का प्रयास करूंगा ॥ 

श्री रामजन्मभूमि का ईसापूर्व इतिहास..

त्रेता युग के चतुर्थ चरण में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री रामचंद्र जी अयोध्या की इस पावन भूमि पर अवतरित हुए थे। श्री राम चन्द्र जी के जन्म के समय यह स्थान बहुत ही विराट,सुवर्ण एवं सभी प्रकार की सुख सुविधाओ से संपन्न एक राजमहल के रूप में था। महर्षि वाल्मीकि ने भी रामायण मे जन्मभूमि की शोभा एवं महत्ता की तुलना दूसरे इंद्रलोक से की है ॥धन धान्य रत्नो से भरी हुई अयोध्या नगरी की अतुलनीय छटा एवं गगनचुम्बी इमारतो के अयोध्या नगरी में होने का वर्णन भी वाल्मीकि रामायण में मिलता है ॥
भगवान के श्री राम के स्वर्ग गमन के पश्चात अयोध्या तो पहले जैसी नहीं रही मगर जन्मभूमि सुरक्षित रही। भगवान श्री राम के पुत्र कुश ने एक बार पुनः राजधानी अयोध्या का पुनर्निर्माण कराया और सूर्यवंश की अगली 44 पीढ़ियों तक इसकी अस्तित्व आखिरी राजा महाराजा वृहद्व्ल तक अपने चरम पर रहा॥ कौशालराज वृहद्वल की मृत्यु महाभारत युद्ध में अभिमन्यु के हाथो हुई ।  महाभारत के युद्ध के बाद अयोध्या उजड़ सी गयी मगर श्री रामजन्मभूमि का अस्तित्व प्रभुकृपा से बना रहा ॥
महाराजा विक्रमादित्य द्वारा पुनर्निर्माण:
ईसा के लगभग १०० वर्ष पूर्व उज्जैन के राजा विक्रमादित्य आखेट  करते करते अयोध्या चले आये। थकान होने के कारण अयोध्या में सरयू नदी के किनारे एक आम के बृक्ष के नीचे वो आराम करने लगे। उसी समय दैवीय प्रेरणा से तीर्थराज प्रयाग से उनकी मुलाकात हुई और तीर्थराज प्रयाग ने सम्राट विक्रमादित्य को अयोध्या और सरयू की महत्ता के बारे में बताया और उस समय तक नष्ट सी हो गयी श्री राम जन्मभूमि के उद्धार के लिए कहा॥
महाराजा विक्रमादित्य ने कहा की महाराज अयोध्या तो उजड़ गयी है,मिटटी के टीले और स्तूप ही यहाँ अवशेषों के रूप में हैं, फिर मुझे ज्ञान कैसे होगा की अयोध्या नगरी कहा से शुरू होती है,क्षेत्रफल  कितना  होगा और किस स्थान पर कौन सा तीर्थ है  
इस संशय का निवारण करते हुए तीर्थराज प्रयाग ने कहा की यहाँ से आधे योजन की दूरी पर मणिपर्वत है,उसके ठीक दक्षिण चौथाई योजन के अर्धभाग में गवाक्ष कुण्ड है उस गवाक्ष कुण्ड से पश्चिम तट से  सटा हुआ एक रामनामी बृक्ष है,यह वृक्ष अयोध्या की परिधि नापने के लिए ब्रम्हा जी ने लगाया था।  सैकड़ो वर्षों से यह वृक्ष उपस्थित है वहा।  उसी वृक्ष के पश्चिम ठीक एक मिल की दूरी पर एक मणिपर्वत है। मणिपर्वत के पश्चिम सटा हुआ गणेशकुण्ड  नाम का एक सरोवर है,उसके ऊपर शेष भगवान का एक मंदिर बना हुआ है  (ज्ञातव्य है की अब इस स्थान पर अयोध्या में शीश पैगम्बर नाम की एक मस्जिद है जिसे सन १६७५ में औरंगजेब ने शेष भगवान के मंदिर को गिरा कर बनवाया था ). शेष भगवान के मंदिर से ५०० धनुष पर ठीक वायव्य कोण पर भगवान श्री राम की जन्मभूमि है॥
रामनामी वृक्ष(यह वृक्ष अब सूखकर गिर चुका है) के एक मील के इर्द गिर्द एक नवप्रसूता गाय को ले कर घुमाओ जिस जगह वह गाय गोबर कर दे,वह स्थल मणिपर्वत है फिर वहा से ५०० धनुष नापकर उसी ओर गाय  को ले जा के घुमाओ जहाँ उसके स्तनों से दूध की धारा गिरने लगे बस समझ लेना भगवान की जन्मभूमि वही है रामजन्मभूमि को सन्दर्भ मान के पुरानो में वर्णित क्रम के अनुसार तुम्हे समस्त तीर्थो का पता लग जायेगा,ऐसा करने से तुम श्री राम की कृपा के अधिकारी बनोगे यह कहकर तीर्थराज प्रयाग अदृश्य हो गए॥
रामनवमी के दिन पूर्ववर्णित क्रम में सम्राट विक्रमादित्य ने सर्वत्र नवप्रसूता गाय को घुमाया जन्म भूमि पर उसके स्तनों से अपने आप दूध गिरने लगा उस स्थान पर महाराजा विक्रमादित्य ने श्री राम जन्मभूमि के भव्य मंदिर का निर्माण करा दिया॥
ईसा की ग्यारहवी शताब्दी में कन्नोज नरेश जयचंद आया तो उसने मंदिर पर सम्राट विक्रमादित्य के प्रशस्ति को उखाड़कर अपना नाम लिखवा दिया। पानीपत के युद्ध के बाद जयचंद का भी अंत हो गया फिर भारतवर्ष पर लुटेरे मुसलमानों का आक्रमण शुरू हो गया। मुसलमान आक्रमणकारियों ने जी भर के जन्मभूमि को लूटा और पुजारियों की हत्या भी कर दी,मगर मंदिर से मुर्तिया हटाने और मंदिर को तोड़ने में वे सफल न हो सके॥ विभिन्न आक्रमणों के बाद भी सभी झंझावतो को झेलते हुए श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या १४वीं शताब्दी तक बची रही॥ चौदहवी शताब्दी में हिन्दुस्थान पर मुगलों का अधिकार हो गया और उसके बाद ही  रामजन्मभूमि एवं अयोध्या को पूर्णरूपेण इस्लामिक साँचे मे ढालने एवं सनातन धर्म के प्रतीक स्तंभो को जबरिया इस्लामिक ढांचे मे बदलने के कुत्सित प्रयास शुरू हो गए॥

बाबर  के आक्रमण के बाद अयोध्या में मस्जिद निर्माण कैसे हुआ,इस्लामिक आतताइयों ने कैसे अयोध्या का स्वरूप बदलने की कोशिश की और उसके बाद कई सौ सालो तक जन्मभूमि को मुक्त करने के लिए हिन्दुओं द्वारा किये गए युद्धों एवं बलिदानों एवं उन वीरों का वर्णन अगली पोस्ट में॥

सन्दर्भ:प्राचीन भारत, लखनऊ गजेटियरलाट राजस्थान,रामजन्मभूमि का इतिहास(आर जी पाण्डेय),अयोध्या का इतिहास(लाला सीताराम),बाबरनामा

जय श्री राम 

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा लिखा है, आशुतोष.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Indian College Girls Pissing Hidden Cam Video in College Hostel Toilets


      Sexy Indian Slut Arpana Sucks And Fucks Some Cock Video


      Indian Girl Night Club Sex Party Group Sex


      Desi Indian Couple Fuck in Hotel Full Hidden Cam Sex Scandal


      Very Beautiful Desi School Girl Nude Image

      Indian Boy Lucky Blowjob By Mature Aunty

      Indian Porn Star Priya Anjali Rai Group Sex With Son & Son Friends

      Drunks Desi Girl Raped By Bigger-man

      Kolkata Bengali Bhabhi Juicy Boobs Share

      Mallu Indian Bhabhi Big Boobs Fuck Video

      Indian Mom & Daughter Forced Raped By RobberIndian College Girls Pissing Hidden Cam Video in College Hostel Toilets


      Sexy Indian Slut Arpana Sucks And Fucks Some Cock Video


      Indian Girl Night Club Sex Party Group Sex


      Desi Indian Couple Fuck in Hotel Full Hidden Cam Sex Scandal


      Very Beautiful Desi School Girl Nude Image

      Indian Boy Lucky Blowjob By Mature Aunty

      Indian Porn Star Priya Anjali Rai Group Sex With Son & Son Friends

      Drunks Desi Girl Raped By Bigger-man

      Kolkata Bengali Bhabhi Juicy Boobs Share

      Mallu Indian Bhabhi Big Boobs Fuck Video

      Indian Mom & Daughter Forced Raped By Robber

      Sunny Leone Nude Wallpapers & Sex Video Download

      Cute Japanese School Girl Punished Fuck By Teacher

      South Indian Busty Porn-star Manali Ghosh Double Penetration Sex For Money

      Tamil Mallu Housewife Bhabhi Big Dirty Ass Ready For Best Fuck

      Bengali Actress Rituparna Sengupta Leaked Nude Photos

      Grogeous Desi Pussy Want Big Dick For Great Sex

      Desi Indian Aunty Ass Fuck By Devar

      Desi College Girl Laila Fucked By Her Cousin

      Indian Desi College Girl Homemade Sex Clip Leaked MMS











































































































































































































































































































































































































































































































      हटाएं
  2. ayodhya ki dharti pr kadam padte hi mn romach se bhar jata he,,aas-pass kisi adrishya shakti ehsas hota he....bht sudr likha he...isme kh jankari mere liye naya he....jai shri ram..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया , लिखा है ... बधाई एवं आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर लिखा है आशुतोष...बधाई ...अगली पोस्ट की प्रतीक्षा है..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आशीर्वाद के लिए धन्यवाद गुरुदेव॥

      हटाएं
  5. बहुत खोजी पोस्ट ... सुंदर... अगली पोस्ट की प्रतीक्षा है

    उत्तर देंहटाएं
  6. Sita Ram charit ati pawan , madhu saras aur ati man bhabhan................................... ati sundar shabdawali ke saath thathayatmak jankari prashashniye prayaas om namah shivaya

    उत्तर देंहटाएं
  7. अत्युत्तम लेख|पढकर बड़ा अच्छा लगा|हार्दिक बधाई|

    उत्तर देंहटाएं

आप को ये लेख कैसा लगा अपने विचार यहाँ लिखे..