बुधवार, 10 फ़रवरी 2016

‪#बाबर ‪#‎औरंगजेब या ‪#‎राम ? किसके हैं भारत के ‪#‎मुसलमान??


जो मुसलमान खुद को बलात्कारी बाबर,अकबर,

औरंगजेब की संतति मानकर दम्भ में हैं वो सच्चाई जान लें की उनके पुरखे राम और कृष्ण थे ये राम की धरती है और वो भी राम के रहे हैं। अत्याचार और परिस्थिति वश उन्होंने अपनी पूजा पद्धति बदल ली मगर इससे उनके बाप(पुरखे) नहीं बदल जायेंगे..अब कुछ तथ्य जान लीजिये...
×××××××××××××××××××
◆◆अल्लामा इक़बाल: कश्मीरी पंडित सहज सप्रू के वंशज
◆◆फारुख अब्दुल्ला:कश्मीरी पंडित राघो राम क़ौल के वंशज
◆◆ क्रांतिकारी अब्दुल करीम: आचार्य कृपलानी के सगे भाई ।
◆◆मुहम्मद अली जिन्ना : गुजराती कच्छ के हिन्दू के वंशज
◆◆सिकन्दर हयात खान : ब्राम्हण पुरखों के वंशज
◆◆ऐ आर रहमान: पहला नाम दिलीप कुमार बाद में परिवार ने धर्म परिवर्तन कर लिया
◆◆शायर हाफिज जालंधरी: राजपूत पुरखों के वंशज
◆◆कवि मुसाफी : राजपूत पुरखे
◆◆इतिहासकार शिबली नेमानी: राजपूत पुरखे
◆◆ बंगाल के मुख्यमन्त्री फज़ुल हक़:हिन्दू पुरखे
◆◆ हैदराबाद रियासत के प्रधानमंत्री रहे सर अकबर हैदरी: गुजराती हिन्दू के वंशज
◆◆ क्रन्तिकारी एवं लेखक उबेदुल्ला सिंधी: सिक्खों के वंशज
◆◆ सर फिरोजखान नून: परदादा राजपूत खानदान के
◆◆ जुल्फिखार अली भुट्टो: हिन्दू माँ की संतति
◆◆ पूर्व श्रम मंत्री आबिदअली जफरभाई:कच्छ के हिन्दू पूर्वजों के खानदान से
◆◆पूर्व हैदराबाद रियासत के प्रधानमंत्री नवाब छतारी : हिन्दू पूर्वज के वंशज
------------------------------------------------------
अब कुछ मुसलमान जातियों के बारे में जान लें...
◆◆मुस्लिम पटेल- गुजरात में पाई जाने वाली प्रमुख मुस्लिम जाति | इनके नाम जैसे अहमद पटेल..१५ वि सदी में मुख्यत: इस जाति के लोगो ने मुस्लिम धर्म कोस्वीकार कर लिया | ये अपना मूल हिंदू धर्म को मानते हे | हिंदुओं में भी पटेल जाति पाई जाती हे | आज भी ये लोग कई हिंदू परम्परा को ये मानते हे, इनकी गोत्र गंगात, दलाल, देसी मुंशी आदि हिंदू सम्कक्ष में भी मिलते हे | यह जाति मुख्यत: अपने समाज में ही शादी करती
◆◆ पिंजारा या पिनारा मुस्लिम - रुई की धुनाई का कार्य करने वाली मुस्लिम जाति हे | ये लोग ११ वि सदी में औरंगजैब के समय मुस्लिम धर्म में परिवर्तित हुए थे | किन्तु कुछ हिंदू धर्म के रीतियो और अपने बिरादरी में ही शादी करने की प्रथा हिंदू मूल को इंगित करती हे, ये लोग गो मांस नहीं खाते हे और हिंदू रस्म, खोल भारवो को मानते हे
◆◆|कुछ गुजराती मुस्लिम जातीय जेसे लोहना मेमन आदि भी हिंदूधर्म से ही परिवर्तित हुए हे |*
◆◆वघेर- एक मुस्लिम जाति जिसका शाब्दिक अर्थ हे चमर से हवा देने वाली - ये भी हिंदू धर्म से परिवर्तित मुस्लिम जाति और हिंदू समकक्ष वाघेर जाति भी गुजरात में पे जाती हे | ये लोग गो मांस नहीं खाते और सिर्फ अपनी समाज में ही शादी करते | इनकी गोत्र शेठ, जडेजा, सोलंकी जो की प्रमुख राजपूत गोत्रों के समान जान पड़ती
◆◆ सिंधी मुस्लिम- थे अपने आपको हिंदुओं से परिवर्तित मानते हे और अपना मूल हिंदू राजपूत से मानते हे | इनके प्रमुख अटक या गोत्र इस प्रकार राव, टाक, देवड़ा, चोहान।
◆◆अतर - महाराष्ट्र में पाई जाने वाली एक मुस्लिम जाति हे| ये लोग १२९४ से १६७४ इस्वी में धर्म परिवर्तित हुए थे
◆◆मांग गरुडी- मुस्लिम समाज में भी मांग गरुडी जाति पाई जाती |
◆◆ मुस्लिम भांड- यह भी एक मुस्लिम जाति हे जो कहानिया कहती हे, यह जाति सिर्फ बिरादरी में ही शादी करती हे|
◆◆ मंसूरी या रंगरेज- ये लोग अपना मूल राजपूत जाति को मानते हे | इनके अनुसार रण स्वरुप सिंह के समय ये राजस्थान से गुजरात आए और यहाँ पर धर्मान्तरण कर लिया | आज भी इनकी प्रमुख गोत्र - राव, देवड़ा, टाक चोहान भाटी जोकि राजपूत गोत्र भी ◆◆ बोहरा- यह पश्चिमी भारत में पाई जाने वाली एक मुस्लिम जाति जो शिया समुदाय को मानती हे | यह एक व्यापार आदि में सलग्न रहती हे | असगर अली इंजिनियर के अनुसार बोहरा समुदाय स्थानीय भारतीय जातियों के धर्म परिवर्तन से ही बनी हे | ये लोग अपने समाज में ही शादी करते हे | आज भी कई हिंदू प्रथाओं को इनके जीवन में देखा जा सकता |
◆◆ देशवली- ये लोग राजपूत जातियों से परिवर्तित मने जाते, देशवाली का अर्थ होता हे देश के रक्षक | इन लोग का धर्म परिवर्तन मोह. गोरी के समय हुआ था ऐसा मन जाता हे | ये लोग गो मांस नहीं खाते हे |
◆◆ चेजरा- इन्हें मिस्त्री जाति के नाम से भी जाना जाता |येलोग राजपुट जाति से परिवर्तित, जो मो. गोरी के समय परिवर्तित हुऐ थे | ये लोग गो मांस नहीं खाते | इनकी प्रमुख गोत्र चोहन, सोलंकी सिसोदिया हे जोकि प्रमुख राजपूत जातियों की गोत्रे भी हे |
◆◆ कश्मीरी मुसलमानों के उपनाम-पंडित, भट्ट, जुत्शी, किचलू तथा ऐसे ही अन्य उपनाम स्पष्ट बताते हैं की ये सभी हिन्दू रहे हैं..
★★★★★
समस्या पूजा पद्धतियों से नहीं है कोई अजान करे या कोई भजन..मगर अजान करने,भजन करने से,गुरुद्वारा जाने या क्रास लटकाने से हमारे पुरखे नहीं बदल जायेंगे.. और ये तथ्य बताने के लिए पर्याय हैं की आप "बाबर और औरंगजेब के अवैध बिज" न होकर "राम और कृष्ण के शौर्य" की निशानी हो..अतः औरंगजेब के अवैध संतान की जगह आप इंडोनेशियन मुसलमानो की तरह बोल सकते हैं की आप वंशज तो राम के हैं पूजा पद्धति से मुसलमान हैं...
आशुतोष की कलम से

सन्दर्भ साभार: गूगल वेबसाइट,ब्लॉग,विकिपीडिया,